गणेशजी से घबराई मछलियाँ?

गणेशोत�?सव श�?रू हो गया हैं, जगह जगह पण�?डाल सज�?ज ग�? हैं और प�?री चकाचौंध के साथ गणेशजी विराजमान हो ग�? हैं. अभी क�?छ दिन और तमाशा चलेगा. भक�?त पूजा-पाठ और प�?रसादी में मस�?त रहेंगे, पर इस दौरान मछलियों की धड़कने हर दिन तेज और तेज होती जा�?ंगी. पानी में होते ह�?�? भी गला स�?ख रहा होगा बेचारीयों का.
�?सा क�?यों हो रहा हैं?
वाह जी, वाह मौत आने पर किसकी हालत पतली नहीं होगी. चंद दिनो में जब सारे भक�?तों का नाच-गा कर, पूजा-पाठ कर पेठ भर जा�?गा, पूरे जोश के साथ “गणपति बाप�?पा मोरीया�? का घोष करते ह�?�? ज�?लूस के साथ निकलेंगे और गणपति बाप�?पा को ले जाकर कांकरीया �?ील में विसर�?जित कर देंगे. शहर भर से पन�?द�?रह सौ के करीब म�?र�?तिया�? �?ील में समा जा�?गी और फिर प�?लासटर ऑफ पेरीश तथा अन�?य रसायण व रंग पानी में घ�?लने लगेंगे.
पानी द�?षित होगा तो उसमें प�?राणवाय�? की मात�?रा भी कम हो जा�?गी. दम घ�?टने से मछलिया�? तड़प-तड़प कर मरने लगेगी. हर वर�?ष की तरह इस बार भी �?ील में पानी की सतह पर मरी ह�?ई मछलियों के ढेर जमने लगेंगे. फिर अखबार में फोटो छपेंगे, �?ील की सफाई होगी और हम भूल जा�?ंगे. अगले वर�?ष फिर गणपति आ�?ंगे…
हा�? गणपति फिर आ�?ंगे क�?योंकि विसर�?जन के समय उनसे अगले वर�?ष फिर आने का वचन लिया जाता हैं.
नया म�?हावरा बना लो “�?ील की मछलिया�? कब तक खैर मना�?गी�?

Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail

2 Responses to “गणेशजी से घबराई मछलियाँ?”

  1. बहà¥?त सही मà¥?हावरा बनाया आपने….
    हैदराबाद हाई कोरà¥?ट ने गणेश मूरà¥?तियों को हà¥?सैन सागर à¤?ील में विसरà¥?जित करने पर पà¥?रतिबनà¥?ध लगा दिया, तो हमारे à¤?क केनà¥?दà¥?रीय मंतà¥?री (अब भूत पूरà¥?व, जो कई गणेश मणà¥?डलों के अधà¥?यकà¥?ष भी हैं)à¤?.नरेनà¥?दà¥?रा ने खà¥?ले आम घोषणा कर दी कि हम हाई कोरà¥?ट के आदेश को नहीं मानेंगे, मूरà¥?तियाà¤? तो हà¥?सैन सागर में ही विसरà¥?जित होंगी।
    (ये à¤?क मंतà¥?री के शबà¥?द है)

  2. चिंतनीय विषय है, आंदोलन की आवशà¥?यकता है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *