सरजी और टिंडे की सब्जी

सुनीता, मैं टिंडे की सब्जी नहीं खाउंगा. 
तुम सुनती क्यों नहीं? मैं टिंडे की सब्जी नहीं खाउंगा. 
कान खोल कर सुन लो, मैं घर का मालिक हूँ, मैं टिंडे की सब्जी नहीं खाउंगा. 
मैं डायनिंग टेबल से उठूंगा नहीं, यहीं धरना दूंगा. पर मैं टिंडे की सब्जी नहीं खाउंगा. 
तुम इधर उधर घूम रही हो, मेरी सुनाती ही नहीं, मैंने कहा, मैं टिंडे की सब्जी नहीं खाउंगा. 
मैं तुम्हारी शिकायत तुम्हारी माँ से करूंगा. मेरे पास सबूत है. मैंने टिंडे की सब्जी के साथ सेल्फी ली है.
सुनीता, मैं बच्चों की कसम खाता हूँ, जो ३७० फोटो ली है वो सासुमाँ को भेज दूंगा. 
सुनीता, सुनो, सुनो तो सही, मैं टिंडे की सब्जी नहीं खाउंगा. सुबुक…सुबुक… मैं ससुराल के सोफे पर पसरा रहूंगा, वहां धरना दूंगा… सुबुक… लेकिन टिंडे की सब्जी नहीं खाउंगा. सुबुक… सुबुक… 
अच्छा सुनो, कम से कम थोड़ा नमक तो दे दो.. टिंडे में कम है…

Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *