हम दीन-हीन अल्पसँख्यक नहीं है

राष्ट्रपति ने अपने अभिभाषण में जिक्र किया कि “अल्पसंख्यक समुदाय गरीबी से पीड़ित है और सरकारी स्कीमों के लाभ अल्पसंख्यकों तक नहीं पहुंचते हैं।”

-क्षमा करें एक जैन होने के नाते मैं अल्पसंख्यक बना दिया गया हूँ,  मगर गरीबी से पीड़ित समाज का हिस्सा नहीं हूँ, और सरकारी सहायता अपने पास ही रखिये.

राष्ट्रपति महोदय आगे कहते है कि ‘सरकार अल्पसंख्यक समुदायों में आधुनिक और तकनीकी शिक्षा का प्रसार करने के उपायों को विशेष तौर पर कारगर बनाएगी और राष्ट्रीय मदरसा आधुनिकीकरण कार्यक्रम शुरू करेगी।’

-मान्यवर मैं अल्पसंख्यक बना दिया गया हूँ मगर मदरसा में शिक्षा न लेना चाहता हूँ, न बच्चों को दिलवाना चाहता हूँ.

आप अगर यह कहना चाहते हैं कि इस बात से सीख, जैन, ईसाई, पारसी, बौद्धों का सम्बन्ध नहीं है तो मान्यवर जिनका सम्बन्ध है खुल कर उनका नाम लें. हमें क्यों दीन-हीन बता रहें हैं?

Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *