नोटबंदी पर छींटाकशी

असुविधाओं के बीच हास्य निकाल लेना किसी जीवित समाज की निशानी है. ऐसा समाज कभी विध्वंस की ओर नहीं बढ़ता, और नवसृजन से अपने अस्तित्व को टिकाए रखता है.

विमुद्रीकरण से उपजी परिस्थिति पर हास्य निकाल लेना हमारे हास्य बोध को उजागर कर रहा है.

ये मेरे चुटकुले नहीं है. एक एक कर बिनें है. हास्यबोधमय साथियों से साभार.

***

मै शादी का कार्ड लेकर ढाई लाख लेने बैंक गया।
3 घंटे बाद बैंक ने कहा पैसे नही मिलेंगे।
मैनें पूछा, क्यों ?
तो कहा, 10 साल पुराना कार्ड नही चलेगा।
हद है यार! …………अब ढाई लाख के लिये नई शादी करूँ?

***

चाहुँगा तुम्हे शाम-सवेरे……
क्योँकि, दोपहर को तो मुझे बैँक की लाईन मेँ लगना है!

***

हेलो, डोमिनो पिज्ज़ा?? एक पिज्जा भेज दीजिए..
हाँ… कहाँ??
आपके पीछे वाली गली में SBI की लाईन में 28वाँ नंबर, लाल स्वेटर वाला बोल रहा हूँ..

***

पति: मेरी पत्नी कहती है क़ि तुम ₹ 2000/- के नोट के जैसे हो।
मित्र : वाह किस्मत वाले हो! भाभी कितना आदर देती है।
पति : नहीं यार वो कहती है, तुम्हे मैं बदल नहीं सकती ना ही फेंक सकती हूँ।

***

एक बाबा ने आवाज लगाई_
” बहन रोटी दे दो, बाबा भूखा है”
अंदर से आवाज आई_
” तेरी बहन बैंक गयी है, आज तेरा जीजा भी भूखा है”।

***

जो कहते थे कि हमारी सात पुश्ते बैठे-बैठे खा सकती हैं,
उनकी तीन पुश्ते बैंक की लाइन में खड़ी हैं।

***

एक जिम्मेदार नागरिक की तरह भारी ट्राफिक में भी जगह दें, जब भी आप….
जब भी आप…. ATM केस वेन देखें.

***

मम्मी… मम्मी… दरवाजे पर कोई भिखारी आया है…
चुप नासपीटे… ये तो तेरे पिताजी हैं, चार दिनों से बैंक की लाईन में लगे-लगे दाढ़ी बढ़ गई है…

***
white money = कमाना मुश्किल
black money = छिपाना मुश्किल
pink money = छुट्टा कराना मुश्किल…..

***

तुम सब यहां 500 -1000 की नोटो में उलझे हो
उधर SETMAX पर सूर्यवंशम में किसी ने हीरा ठाकुर की खिर में जहर मिला दिया ।

***

रुपया बदलते समय जब एक वरिष्ठ नागरिक की उंगली पर स्याही लगाई गई तो उस ने बैंक मैनेजर से पूछा,,,
यह पानी से छूट जायेगी क्या?
जवाब –नहीं।
क्या यह सर्फ शेम्पु से छूट जाएगी ?
जवाब –नहीं ।
जमा कराने वाले ने फिर पूछा– फिर कितने दिन तक रहेगी ,?
बैंक अधिकारी का जवाब– था पूरे 1 साल तक ।
रुपया बदलने वाला वरिष्ठ नागरिक बड़ा खुश होकर बोला…
सर मेरे बालों में लगा दीजिए। हर 15 दिन बाद डाई करने के लिए ₹200 देना पड़ता है।

***

मैं तो 7-8 सालों से Cashless transaction कर रहा था…
पर साले गंवार लोग….
उसे “उधारी-उधारी ” बोलते हैं.

***

लोगों की उधारी वापस दिलवाने वाले
मोदी जी इतिहास के पहले प्रधानमन्त्री बनें.

***

रिपोर्टर – ये देखिये बैंक की इस लाइन में 3 साल का बच्चा भी “मोदी मोदी” चिल्ला रहा है…
बच्चे की माँ- चुपकर नाशपीटे ? , वो “गोदी गोदी” चिल्ला रहा है…..

***

सही में लगता है राम राज्य आ गया है।
सबकी कार और मोटर साईकिल की टंकी फुल है।
घर में खाने के सामान भरे है।
माँ बाप की सेवा हो रही है।
लोग लाखों रुपये लेकर घूम रहे हैं, कोई लूटने वाला नहीं।
लोग गरीबों में अपना धन बाँट रहे हैं।

***

ब्लैक मनी रखने वाला मोदी जी से गाकर कहता है:
तुम्हारी नज़र क्यों खफा हो गई
खता बक्श दो गर खता हो गई ।

मोदी जी भी गाकर जवाब देते हैं:
हमारा इरादा तो कुछ भी न था
तुम्हारी खता खुद सज़ा बन गई ।

***

कुछ दोहे भी…

दीदी जीजा धुल गए, धरे रह गए ठाठ।
मोदी ऐसा धो रहा, खड़ी हो गई खाट।।

रहिमन रद्दी हो गई, बड़ी करेन्सी नोट।
यूपी औ पंजाब में कइसे मिलिही वोट।।

माया की माया गई , दिये मुलायम रोय।
इह झटके का अब यहाँ इलाज न होगा कोय।।

दीदी गुर्राए यहाँ, वहाँ बहन जी रोय।
उधर केजरी दंग है; क्यों हमको मोदी धोय।।

मुद्रा माटी हो गई, मोदी भए कुम्हार।
नेता मिलि के रो रहे, ऐसा हुआ प्रहार।।

रहिमन आँखन ना दिखे, भीतर लागी चोट।
रहि रहि गारी दे रहे ,कह मोदी को खोट।।

सीट बेंचि के पाये थे, रुपैया कछु करोड़।
क्षण भर में माटी भये, दिया हौसला तोड़।।

***
शेर-ओ-शायरी भी हो जाए…

बदलवा दे मेरे नोट ए ग़ालिब,
या वो जगह बता दे, जहां कतार न हो..

***

उमरे दराज़ मांग कर लाये थे चार दिन,
दो कमाने में लग गए, दो बदलवाने में..

***

मुल्क़ ने माँगी थी, उजाले की फ़क़त एक किरन..!!
निज़ाम ने हुक़्म दिया, आग लगा दी जाए….!!!!

Facebooktwittergoogle_plusredditpinterestlinkedinmail

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *